September 24, 2022
Short Motivational Stories In Hindi.

महान पुरुषों की 3 प्रेरणादायक कहानियां । Short Motivational Stories In Hindi

Short Motivational Stories In Hindi

दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस आर्टिकल महान पुरुषों की 3 प्रेरणादायक कहानियां में। इस आर्टिकल में हम उन लोगों की बात करेंगे जिन्होंने अपने जीवन काल में अनंत ऊंचाइयों को छुआ और लोगों के सामने प्रेरणादायक ऊर्जा के स्रोत बनकर उभरे। जिन्होंने मनुष्य के चिंताजनक और असफल जीवन को सफल बनाने का बीड़ा उठाया और काफी हद तक उसमें कामयाब भी रहे। पूरा आर्टिकल एक बार जरूर पढ़े। हम आशा करते हैं इसे पढ़ने के बाद आप में भी अनंत ऊर्जा का प्रवाह होगा।

सपने बड़े हों, तो छोटी जगह से आना कोई मायने नहीं रखता – 

मैं बहुत छोटी जगह से आया था, पर खुद को किसी भी तरह से छोटा महसूस नहीं किया, क्योंकि मेरे सपने बड़े थे। अपने पूरे छात्र जीवन में जिस बात ने मुझे पढ़ाई जारी रखने के लिए लगातार प्रेरित किया, वह था कुछ बड़ा हासिल करने का जज्बा, एक बेहतर जीवन जीने की चाह और अनुशासित जीवनशैली के लिए मेरी प्रतिबद्धता वाकई, अनुशासनं से रहना जिंदगी में लक्ष्य तय करने और उस तक पहुंचने के बीच किसी पुल की तरह काम करता है।

अनुभवों के आधार पर बता सकता हूं कि चार पक्के तरीके हैं, जिनसे आपको सफलता पाने में मदद मिल सकती है। पहले, बीस वर्ष की उम्र तक अपने जीवन लक्ष्य तय कर लेना। दूसरे, अहम किताबों, गुरुजनों और महान हस्तियों से ज्ञान हासिल करने का जुनून होना। तीसरे, कड़ी मेहनत और अनुशासित जीवनशैली का पालन करते हुए अपने लक्ष्य की ओर बढ़ना। और चौथे, अपने चुने हुए रास्ते पर पक्के इरादे के साथ बिना ठहरे चलते रहना।

मैं मार्टिन लूथर किंग जूनियर के जीवन से बहुत प्रभावित रहा हूं। उन्होंने अपने सपने को सच में बदलने के लिए कड़ी मेहनत की और व्यक्तिगत स्तर पर कुर्बानियां दीं।

शिक्षा – हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है कि हम निराशाओं और शंकाओं को किसी भी कीमत पर खुद पर हावी न होने दें।

जीवन में सबसे जरूरी है अपने प्रति ईमानदार रहना – 

Short Motivational Stories In Hindi.

मैं सिर्फ 28 साला का था जब त्रिभुवनदास (अमूल के सह-संस्थापक) ने मुझे अमूल का जनरल मैनेजर बना दिया। ये वो उम्र है, जब लगता है कि कुछ भी असंभव नहीं है और हम चुनौतियों के लिए तैयार होते हैं। मैं कम उम्र में ही पेशेवर जिम्मेदारियां सौंपने में यकीन रखता हूं। युवाओं की गलतियों पर निंदा करने के बजाय उन्हें सुधारें।

त्रिभुवनदास और गुजरात में खेड़ा जिले के दुग्ध किसानों के साथ काम करते हुए मैंने देखा कि अगर आप सिर्फ अपने फायदे के लिए काम करते हैं, तो उससे मिलने वाला सुख क्षणिक होता है, लेकिन अगर दूसरों के लिए काम करते हैं तो तृप्ति की गहरी भावना मिलती है। वहीं अगर आपने चीजें ढंग से संभाली हैं, तो पैसा भी पर्याप्त होता है।

ये जिंदगी सौभाग्य से मिलती हैं इसे यूं ही व्यर्थ कर देना गलत होगा। आपको अपनी जिम्मेदारी स्वीकार करनी होगी। अपनी क्षमताओं का सर्वश्रेष्ठ इस्तेमाल करें और आम लोगों की भलाई करते रहें। वो भलाई किसी न किसी रूप में हर दिन आपके सामने आएगी। अपने चारों ओर देखें, लोगों को आपकी जरूरत है। बहुत कुछ बाकी होना रह गया है। सत्यनिष्ठा सबसे महत्वपूर्ण मूल्य है, खुद से सत्यनिष्ठा मतलब अपने प्रति इमानदार बने रहना।

अगर आप खुद के प्रति ईमानदार हैं, तो दूसरों से इमानदार रहने के लिए ज्यादा प्रयास नहीं करने पड़ते। मैंने ये चीज सीखी कि असफलता, सफल नहीं होने में नहीं है। ये आपका सर्वश्रेष्ठ देने की कमी, प्रयासं की कमी में है। किसी भी समय कोई भी चीज गलत जा सकती है, पर मेरा मानना है कि लोगों की परिस्थितियो और खुश होने के बीच थोड़ा-सा ही संबध है।

शिक्षा – दूसरें की खुशियां देखकर अपनी तुलना न करें, करीब जाकर ही उनके संघर्षों का पता चलता है।

वक्त को अपना सुविधाजनक मित्र बनाएं – 

Short Motivational Stories In Hindi.

बड़े गुलाम अली खां साहब के लिए वक्त उनका नौकर था। यही बात अली अकबर खां साहब के साथ थी। हर काम के लिए पर्याप्त वक्त रहता था। मेरे लिए वक्त का अर्थ क्या है? इन दिनों और इस दौर में यह आशा करना कि वक्त आपका दोस्त है, यह अभिलाषा एक भ्रम है। मैं यह कहने नहीं जा रहा हूं कि मेरे पास दुनिया में इतना वक्त रहता है कि मैं जो चाहता हूं, करता रहूं हालांकि मैं यह कहुंगा कि वक्त रहता है कि मैं जो चाहता हूं, करता रहूं हालांकि मैं यह कहूंगा कि वक्त एक सुविधाजनक मित्र रहा है।

मैं उस वक्त के बारे में सोचता हूं, जब मैं पैदा हुआ था, जब मैंने संगीत बजाना शुरू किया था, जो मेरे संगी-साथी थे, वे लोग जिनकी ओर मैं खिंचता जाता था, वे संगीतकार जिनके साथ मैंने संगत की, वह ज्ञान जो मैंने हासिल किया, उस अर्थ में, वक्त एक सुविधाजनक मित्र रहा है।

आज मैं पीछे देख सकता हूं और कह सकता हुं कि मैंने संगीतकारों की चार पीढ़ियों के साथ बजाया है, उनके साथ उठा बैठा हूं। और पांचवीं पीढ़ी भी ज्यादा दूर नहीं है। और, मैं अब भी यहीं हूं मेरे पास कुछ साल अभी बाकी हैं। मुझे भी लगता है कि वक्त बहुत जल्दी बीतता है। दिन में इतना समय नहीं रहता कि मैं वह सब कुछ कर सकूं, जो मैं करना चाहता हूं इसलिए मैं थक जाता हूं।

पर, आजकल जिंदगी ऐसी ही है इसको लेकर शिकायत नहीं करनी चाहिए। आखिरकार, मैं ही हूं, जो हां कहता है। इस मायने में वक्त मेरा दोस्त है और मेरी बाधा भी। मुझे रे कमिंग्स का मशहूर कथन याद आता है: ‘वक्त हर चीज को एक बार तो होने से रोकता ही है।

कुछ सालों पहले तक अबकी तुलना में ज्यादा गुस्सा आता था। जो दस चीजें मैं चाहता हुं उनमें से सात हो जाती हैं, तो गुस्सा होने की जरूरत बहुत कम हो गई है और मुझे यह भी अहसास होने लगा है कि गुस्से से कुछ हासिल होता नहीं। जब आप बड़े हो जाते हैं, तब आपको यह अहसास होता है। मैंने यह समझा है कि आपके पास सब्र होना चाहिए।

दोस्तो कृपा कमेंट के माध्यम से जरूर बताइगा की महान पुरुषों की 3 प्रेरणादायक कहानियां आपको कैसा लगे ?

इसे भी पढ़े

उम्मीद आप में ही है

लंबे जीवन का रहस्य है सकारात्मकता

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.