September 24, 2022
Motivational Story In Hindi For Success.

लक्ष्य प्राप्ति पर 2 प्रेरणादायक कहानियां । Motivational Story In Hindi For Success

Motivational Story In Hindi For Success

आगे बढ़ने के लिए सीखने की जबरदस्त इच्छा होनी चाहिए –

Motivational Story In Hindi For Success.

मुझे एक एमबीए ग्रैजुएट की कहानी याद आती है। उसने हाल ही में अपनी पढ़ाई पूरी की थी। वह अपने पिता के साथ कैंपिंग करने के लिए गया था। दोनों दिनभर घूमे और रात में अपने टेंट में आकर सो गए। अचानक रात में पिता सोकर उठे और बेटे से पूछा कि आसमान में देखो, तुम्हें क्या दिखता है? बेटा कहता है कि मुझे लाखों तारे दिख रहे हैं। पिता फिर पूछते हैं कि वे तारे क्या कहते हैं? एमबीए पढ़ा हुआ बेटा क्षण भर को रुकता है और फिर सोचकर बोलता है कि खगोलीय रूप से कहूं तो लाखों आकाशगंगाएं हैं, अरबों गृह हैं।

ज्योतिषीय रूप से कहूं तो शनि सिंह राशि में है और तारे ये भी बताते हैं कि कल एक नई सुबह होगी। फिर वह अपने पिता की ओर मुड़ता है और पूछता है कि पिताजी आपको क्या दिख रहा है? पिता एक मिनट शांत रहे और बोले कि मुझे लगता है कोई हमारा टेंट चुराकर ले गया है। मुझे ये कहानी दो वजहों से पसंद है। पहला तो ये कि एमबीए की डिग्री आपका दुनिया देखने का नजरिया बदल देती है, दूसरा ये कि पिता के पक्ष से समझ आता है कि आपको बारीक चीजों के साथ-साथ बड़ी तस्वीर भी देखने की जरूरत है और आपके सामने जो है, उससे मुंह नहीं मोड़ सकते।

कुछ लोगों को केरिअर से जुड़ी एक सीख याद होगी- “लर्न, अर्न, रिर्टनत’। यानी सीखो, कमाओ और समाज को वापस करो। मैं इसे अब पुरानी सीख कहती हूं। आज आपको सीखना, कमाना और लौटाना…सब एक् साथ करना होगा। पढ़ाई पूरी करने के बाद हमें लगता है कि सीखना बंद हो गया, लेकिन अगर ऐसा सोचते हैं तो रुकें और दोबारा सोचें। कुछ सबक आपको किताबों में नहीं मिलते। इसलिए हमेशा उत्सुक बने रहें। खूब सारा पढे।

विनम्र बने रहें। सच ये है कि हम बेहद तेजी से बदलती दुनिया में रह रहे हैं। सर्वश्रेष्ठ से सर्वश्रेष्ठ प्राथमिक शिक्षा भी आपको जीवन भर का ज्ञान नहीं दे सकती। आगे बढ़ने के साथ सीखने की जबरदस्त इच्छा होनी चाहिए, तभी जाकर आप कहीं पहुंच सकते हैं। स्पैनिश कवि टोनियो मचाडो कहते हैं कि ‘घूमते- भटकते रहें, यहां कोई राह नहीं है, राह या रास्ता आपके चलने से ही बनता है।’ स्थायी प्रभाव पैदा करने के लिए आपको अपना रास्ता खुद बनाना होगा। अब बात पैसों की। आपकी नेटवर्थ, कभी आपकी सेल्फवर्थ तय नहीं करनी चाहिए।

पैसों के पीछे जाएंगे, तब पैसे तो मिल जाएंगे लेकिन अगर जुनून का पीछा करेंगे तो पैसों के साथ-साथ आपको बहुत कुछ नया मिलेगा। मैं जोर देती हूं कि पहले अपने जीवन का उद्देश्य तलाशें। किसी उद्देश्य के साथ किया आपका प्रदर्शंन दरअसल आपकी विरासत बन जाती है। सम्मान कमाएं, विश्वास कमाएं, एक न्यायपूर्ण और विचारों से भरी लीडरशिप वाली छवि कमाएं। प्रभाव पैदा करना चाहते हैं तो बड़ा सोचें और अपनी जिंदगी लंबी अवधि के मूल्यों के लिए समर्पित करें ना कि शॉर्ट टर्म। और अब बात आती है आखिरी बात रिटर्न की।

आपकी कोई भी सफलता, आपकी अपनी सफलता नहीं होती। ग्रैजुएट छात्रों के पीछे माता-पिता, शिक्षकों, आपको चाहने वालों का सहयोग होता है। आपके माता-पिता, मित्र आपकी हमेशा वकालत करने वाले सबसे अच्छे लोग हैं, कभी भी उन्हें ग्रांटेड मानकर न चले। जिंदगी का सबसे बड़ा सबक है कि आपके साथ या सामेने खड़े व्यक्ति को नहीं बल्कि आपके पीछे खड़े व्यक्ति को धन्यवाद दें। आपकी सफलताएं अंततः आपके समाज की भी सफलताएं हैं। उन्हें लौटाना न भूलें।

एक जगह मत रुके, बहर निकलें, यही उत्रति का रास्ता है –

Motivational Story In Hindi For Success.

पुरानी बात है। किसी ने कहा कि 183 रन काफी नहीं है।हालांकि आप 183 गिनना शुरू करें, तो भी वक्त लगेगा। पर कई बार 300 रन भी ज्यादा नहीं होते। यहां आपकी सोच और मन की अवस्था ज्यादा मायने रखती है। जब आप सकारात्मक सोच के साथ लड़ने के लिए तैयार रहते हैं, तो जीतते हैं। 1983 के विश्वकप में हमने यही किया। लोग कहते थे कि मैं नहीं कर सकता। मैं कहता था कि चलो सकारात्मक तरीके से लोगों को गलत साबित किया जाए। जब मुझे क्रिकेट टीम का कप्तान बनाया गया, तो कहा गया कि मैं अंग्रेजी में बात नहीं कर सकता, ऐसे में कैप्टन कैसे बन सकता हूं।

मैंने कहा कि मैं अपना खेल जारी रखता हूं और आप अंग्रेजी में बात करने के लिए ऑक्सफोर्ड से किसी को ले आइए। ये समझना जरूरी है कि आप अपनी प्रतिभा के कारण पहचाने जाते हैं, ना कि आपके बोलने के तरीके या किसी दिखावे से। 70 के दशक में अमिताभ बच्चन को फिल्मों का क्रेज था। मैं आइने में देखकर उनकी फिल्मों के डायलॉँग दोहराने की कोशिश करता। लेकिन बाद में अहसास हुआ कि मैं तो डुप्लीकेट बनने की कोशिश कर रहा हूं। जब तक आप किसी और के जैसा बनने की कोशिश करेंगे, अपनी असली पुकार, अपना असली पैशन नहीं जान पाएंग।

उसके बाद मैंने कभी किसी की नकल करने की कोशिश नहीं की। जब पैशन से कोई काम करने लगते हैं, तो मजा आने लगता है। मैंने क्रिकेट चुना क्योंकि वो 3-4 दिन का खेल होता था और उस दौरान मुझे स्कूल बंक करने का मौका मिलता था। स्कूल में रहता तो वहां से भागने के रास्ते तलाशता। ये भी पैशन था। आप जो भी करें, वह ऐसे करें कि कोई आपको हरा न सके। मैं इमानदारी से कहता हूं कि मैंने क्रिकेट में संघर्घ नहीं किया, उसका लुत्फ उठाया। मेरा भाई स्कूल में हेडबॉय था, वह मेरा हीरो हुआ करता था। फिर स्टेट टीम का कप्तान मेरा हीरो बन गया।

पर जब खेलना शुरू किया तो हीरो बदलने लगे। जब आप दुनिया घूमना शुरू कर देते हैं, तो आपके हीरो बदलने लगते हैं। क्योंकि आपकी उन्नति शुरू हो जाती है। अगर आप जिंदगी भर एक ही संस्थान में काम करते रहेंगे, एक ही जगह रहेंगे, तो ग्रोथ रुक जाएगी। आपको बाहर निकलकर दुनिया देखने की जरूरत है। किसी ने कहा कि कपिल सफल होना चाहते हो, तो अपने आसपास जोे भी घट रहा है, उसके लिए आंख-कान खुली रखो।

किसी दिन टीम के कप्तान बनेगे तो ये काम आएग। मैने इसे सीखने के तौर पर लिया। दुनिया के जिस भी कोने में गया मैंने वहा से सीखने की कोशिश की।हर जगह सीखा। वक्त के साथ खुद को बदलते रहें। आपको रोज सीखना चाहिए। अगर आप रोज सीख नहीं सकते, तो जिंदगी में आगे नही बढ सकते। छोटी-छोटी चीजें ही मुझे आगे ले गई।

दोस्तो कृपा कमेंट के माध्यम से जरूर बताइगा की अपको ‘लक्ष्य प्राप्ति पर 2 प्रेरणादायक कहानियां ‘ आपको कैसी लगी ?

इसे भी पढ़े

उम्मीद आप में ही है

लंबे जीवन का रहस्य है सकारात्मकता

महान पुरुषों की 3 प्रेरणादायक कहानियां

अपना व्यक्तित्व विकास कैसे करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.