September 24, 2022
Motivational Ambedkar Quotes In Hindi.

डॉ. भीमराव अंबेडकर के 30+ अनमोल सुविचार । Motivational Ambedkar Quotes In Hindi

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे नए आर्टिकल Motivational Ambedkar Quotes In Hindi में। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपके साथ श्रेष्ठ चिंतक, ओजस्वी लेखक तथा यशस्वी वक्ता स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री डॉ. भीमराव अंबेडकर के अनमोल विचार साझा करेंगे। लेकिन उससे पहले डॉ. भीमराव अंबेडकर द्वारा लिखित यह प्रेरणादायक पंक्तियां जरूर पढ़ें –

प्रेरणा का स्रोत – हां और नहीं पूरे संसार में दो ऐसे महत्वपूर्ण शब्द हैं। यह आपकी जिम्मेदारी है कि आप उन सभी विचारों से हां कहे जो उपचार करते हैं, वरदान देते हैं, प्रेरित करते हैं। उन सारी नसीहतों, विचारों, पंथों और रूढ़ियों को नहीं कह दे जो रोकती है, सीमित करती हैं और आपके मन में डर भरती है।

कोई भी आपको शाप नहीं दे सकता। दूसरों के पास सिर्फ वहीं शक्ति होती है जो आप उन्हें अपने मन में देते हैं। आपके पास दुआ या शाप देने की स्वतंत्रता होती है। दुआ देने का मतलब है जीवन को हां कहना इसका मतलब है दूसरों के लिए हर उस चीज की इच्छा करना जिसे आप खुद के लिए चाहते हैं।

मानसिक रूप से किसी भी ऐसी चीज को स्वीकार नहीं करें जो आपकी आत्मा में आनंद न भरती हो। आपको यह अहसास होना चाहिए कि ईश्वर असीमित जीवन है और वह आपका जीवन इसी समय है। जब आप हर दिन इस सत्य का एहसास करने की आदत डाल लेते हैं तो आपका व्यक्तित्व अद्भुत हो जाएगा। आप सभी तरीकों और चीजों में अपने लिए नेकी की राह बना लेंगे।

सारी चीजें गुजर जाती है, परिस्थितियां दूसरी परिस्थितियों का सृजन नहीं करती है। मूल कारण आपका विचार और भावना है। भावना और विचार मिलकर आपकी तकदीर बनाते हैं। विचार और भावना आपके मानसिक नजरिए या विश्वास के घोतक है। स्थितियां और परिस्थितियां सिर्फ सुझाव देती है आप में उन्हें स्वीकार या अस्वीकार करने की शक्ति है। इस बारे में सोचे कि आप किस तरह की परिस्थितियां चाहते हैं फिर समस्या को हटा दिया जाएगा और बाधा या मुश्किल को चकनाचूर कर दिया जाएगा।

Motivational Ambedkar Quotes In Hindi

1. जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता हासिल नहीं
कर लेते कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है
वह आपके किसी काम की नहीं।

2. यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं
तो सभी धर्मों के शास्त्रों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए।

3. बुद्धि का विकास मानव के अस्तित्व का
अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।

4. हिंदू धर्म में विवेक, कारण और स्वतंत्र
सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है।

5. हर व्यक्ति जो ‘ मिल के सिद्धांत ‘ की
एक देश दूसरे देश पर शासन नहीं कर सकता को
दोहराता है उसे यह भी स्वीकार करना चाहिए कि
एक वर्ग दूसरे वर्ग पर शासन नहीं कर सकता।

6. कानून और व्यवस्था राजनीतिक शरीर की दवा है
और जब राजनीतिक शरीर बीमार पड़े
तो दवा जरूर दी जानी चाहिए।

7. जीवन लंबा होने की बजाय महान होना चाहिए।

8. मैं ऐसे धर्म को मानता हूं,
जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाएं।

9. सबसे पहले और सबसे आखिर में हम भारतीय हैं।

10. एक महान आदमी एक प्रतिष्ठित आदमी से
इस तरह से अलग होता है कि वह
समाज का नौकर बनने को तैयार रहता है।

11. मैं किसी समुदाय की प्रगति उस समुदाय की
महिलाओं ने जो प्रगति हासिल की है उससे मापता हूं।

12. जो धर्म जन्म से एक को श्रेष्ठ और
दूसरे को नीच बनाए रखें वह धर्म नहीं
गुलाम बनाए रखने का षड्यंत्र है।

13. शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करों।

14. पति – पत्नी के बीच का संबंध
घनिष्ठ मित्रों के संबंध के समान होना चाहिए।

15. जो व्यक्ति अपनी मौत को हमेशा
याद रखता है वह सदा अच्छे कार्य में लगा रहता है।

16. उदासीनता लोगों को प्रभावित करने वाली
सबसे खराब किस्म की बीमारी है।

17. मेरे नाम की जय – जयकार करने से अच्छा है
मेरे बताए हुए रास्ते पर चलें।

18. जो कौम अपना इतिहास नहीं जानती
वह कौम कभी भी इतिहास नहीं बन सकती।

19. अपने भाग्य की बजाय
अपनी मजबूती पर विश्वास करों।

20. अच्छा दिखने के लिए मत जाओ
बल्कि अच्छा बनने के लिए जाओ।

21. ज्ञान व्यक्ति के जीवन का आधार है।

22. संविधान केवल वकीलों का दस्तावेज नहीं है
यह जीवन का एक वाहन है और
इसकी आत्मा हमेशा उम्र की भावना है।

23. एक कड़वी चीज को मीठा नहीं बनाया जा सकता
ठीक वैसे ही जैसे जहर को अमृत नहीं बनाया जा सकता।

24. धर्म मनुष्य के लिए है ना कि मनुष्य धर्म के लिए।

25. एक सुरक्षित सेना, एक सुरक्षित सीमा से बेहतर है।

26. सागर में मिलकर अपनी पहचान खो देने वाली
पानी की एक बूंद के विपरीत इंसान जिस समाज में
रहता है वहां अपनी पहचान नहीं खोता।

27. यदि मुझे लगा कि संविधान का
दुरुपयोग किया जा रहा है तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा।

28. न्याय हमेशा समानता के विचार को पैदा करता है।

29. स्वतंत्रता का रहस्य साहस है,
साहस एक पार्टी में व्यक्तियों के संयोजन से पैदा होता है।

30. निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है
जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो।

31. धर्म में मुख्य रूप से केवल सिद्धांतों की
बात होनी चाहिए यहां नियमों की बात नहीं हो सकती।

32. राजनीति में हिस्सा न लेने का सबसे बड़ा दंड यह है
की अयोग्य व्यक्ति आप पर शासन करने लगता है।

33. ज्ञानी लोग किताबों की पूजा करते हैं
जबकि अज्ञानी लोग पत्थरों की पूजा करते हैं।

34. अगर मरने के बाद भी जीना चाहते हो तो
एक काम जरूर करना
पढ़ने लायक कुछ लिख जाना या
लिखने लायक कुछ कर जाना।

हम आशा करते हैं कि डॉ. भीमराव अंबेडकर के 30+ अनमोल सुविचार आपको पसंद आए होंगें। दोस्तो कृपा कमेंट के माध्यम से जरूर बताइगा की कोट्स आपको कैसे लगे ?

इसे भी पढ़े

जिंदगी पर 40+ सर्वश्रेष्ठ सुविचार

डॉ. अब्दुल कलाम के 30+ अनमोल विचार

स्वामी विवेकानंद के 30+ सर्वश्रेष्ठ विचार

भगवान बुद्ध के 30+ सुप्रसिद्ध विचार

ओशो के 30+ सुप्रसिद्ध सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.